सिन्धु घाटी सभ्यता से जुड़े प्रश्न:

         ·            सिन्धु घाटी दवारा खोजा गया सबसे पुराना स्थल है? – हड़प्पा

         ·            सिन्धु घाटी की खोज सबसे पहले करने वाले कौन थे? – दयाराम साहनी (1921 में)

         ·            सिंधु घाटी सभ्यता एक उन्नत नगरीय सभ्यता पाए जाने की विधिवत घोषणा कि,ने की थी? – सर जॉन मार्शल ने 1924 ई. में (वे भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण विभाग के तत्कालीन महानिदेशक थे)

         ·            सिन्धु घाटी सभ्यता के विस्तार को स्थलों के माध्यम से कैसे वर्णन  कर सकते हैं? – यह विस्तार उत्तर में जम्मू के माण्डा नामक स्थल से महाराष्ट्र के दायमाबाद तक और पश्चिम में विस्तार सुत्कागेंडोर से पूर्व में आलमगीरपुर ( उत्तर प्रदेश) तक है

         ·            सिन्धु घाटी सभ्यता के मुख्य नगर थे? – हड़प्पा, मोहनजोदड़ो, कालीबंगा, लोथल, बनवाली और चन्दूहाड़ो

         ·            किस संस्कृति को सिन्धु घाटी सभ्यता का जनक माना जाता है (हालांकि सभी इतिहासकार इस तथ्य से सहमत नही हैं) – मेसोपोटामिया

         ·            मोहनजोदड़ो किस नदी के किनारे बसा है? – सिन्धु नदी के किनारे (पाकिस्तान के लरकाना प्रांत में)

         ·            हड़प्पा किस नदी के किनारे बसा है? – रावी नदी के किनारे (पाकिस्तान के मोंट्गोमरी प्रांत में)

         ·            कालीबंगा कहा है? – उत्तरी राजस्थान के गंगानगर जिले में मृत घग्गर नदी के किनारे

         ·            लोथल कहां किस राज्य मे है? – गुजरात में खम्भात नदी के मुहाने पर भोगवा नदी के किनारे

         ·            बनवाली किस नदी के किनारे है? – बनवाली हरियाणा में उस सरस्वती नदी के किनारे स्थित माना जाता है जो आज लुप्त हो चुकी है

         ·            चन्दुहाड़ो कहाँ और किस नदी के किनारे बसा है? – पाकिस्तान के सिन्ध प्रांत में सिन्धु नदी के किनारे

         ·            विशाल स्नानागार कहां स्थित है? – मोहनजोदड़ो में

         ·            सिन्धु घाटी स्थलों से प्राप्त मूर्तियां अधिकतर किस वस्तु से बनी हैं? – टेराकोटा

         ·            सिन्धु घाटी सभ्यता के लोग किस वस्तु के दुनिया में पहले उत्पादक थे? – कपास और सूती वस्त्र्

         ·            मोहनजोदाड़ो में पाया गया विशाल स्नानागार का आकार क्या है? – 180 फीट गुणे 108 फीट। इसका स्नानकुण्ड 39 फीट लम्बा, 23 फीट चौड़ा तथा आठ फीट गहरा है।

         ·            सिन्धु घाटी स्थलों में पाई गई कौन सी इमारत सबसे विशाल है? – मोहनजोदड़ो में प्राप्त विशाल अनाज कोठार (धान्यकोठार) जिसका आकार 150 गुड़ा 50 फीट है

         ·            काँसे की नर्तकी की मूर्ति कहाँ से पाई गई है? – मोहनजोदड़ो में

         ·            सिन्धु घाटी सभ्यता का एकमात्र्ा स्थल जहाँ दुर्ग नही बना था? – चन्दूहाड़ो

         ·            सिन्धु घाटी के किस स्थल में सबसे बड़ा अनाज कोठार पाया गया है? – मोहनजोदड़ो में

         ·            सिन्धु घाटी सभ्यता का सबसे पश्चिमी नगर का नाम था? – आलमगीरपुर (वर्तमान मेरठ)

         ·            सिन्धु घाटी सभ्यता का सबसे दक्षिणी नगर का नाम था? – दायमाबाद (महाराष्ट्र)

         ·            सिन्धु घाटी सभ्यता का निर्माता किसे कहते है- द्रविडों को

         ·            सिन्धु घाटी सभ्यता का स्वर्ण युग किसे कहते है? – 2200-2000 ई.पू.

         ·            सिन्धु सभ्यता की प्रारम्भिक काल किसे माना जाता है?- 3000 ई.पू. से 2500 ई.पू.

         ·            सिन्धु सभ्यता का पतन किस समय के दौरान हुआ?- 1750 ई.पू. से 1500 ई.पू. के बीच

         ·            सिन्धु सभ्यता किस युग से सम्बन्धित थी? – कांस्ययुगीन

         ·            सिन्धु सभ्यता की मुख्य विशेषताएं कौन सी थी?- भवन बनाने में पत्थरों के बजाय ईंटों का प्रयोग तथा भूमिगत जलनिकास की बेहतरीन व्यवस्था

         ·            सिन्धु सभ्यता के दौरान सबसे बड़ा नगर था? – मोहनजोदड़ो

         ·            सिन्धु सभ्यता के दौरान किस नगर को मुख्य बंदरगाह माना जाता था? – लोथल

         ·            सिन्धु सभ्यता के व्यक्तियो का मुख्य व्यवसाय क्या था?- कृषि

         ·            भारतीय पटल पर आर्यों का उद्भव जिस समयावधि मे हुआ वह है?- 2000 ई.पू. से 1500 ई.पू.

         ·            भारत में जो हड़प्पा नगर हाल  में खोजा गया है वह है – धौलावीरा

         ·            भारतीय उपमहाद्वीप में सबसे पहले खेती प्रारंभ हुई? – मेहरगढ

         ·            हड़प्पा युग मे मुख्य रूप से किसकी पूजा होती थी? – पशुपति महादेव की

         ·            सिन्धु सभ्यता के शीघ्र पतन का कारण क्या था? – आर्यों का आक्रमण

         ·            सिन्धु सभ्यता के क्रमिक पतन के कारण थे? – प्राकृतिक आपदाएं जैसे बाढ, सूखा, उर्वरता में कमी, जंगलों का विनाश, भूकंप आदि

         ·            सिन्धुवासियों को लोहे का ज्ञान था?- नही

         ·            हड़प्पा काल के किस जगह से चावल के अवशेष मिले हैं? – लोथल एवं रंगपुर

         ·            आर्य लोगों ने भारत में किस दर्रे से प्रवेश किया- खैबर दर्रा

         ·            सिन्धु घाटी के लोग किस देवी की पूजा अरचना करते थे?- मातृदेवी की

         ·            हड़प्पा के लोगों का मुख्य भोजन था? – गेंहू और जौ

         ·            सिन्धु घाटी सभ्यता को नगरीय सभ्यता क्यों कहते है- क्योंकि पहली बार पक्की ईंटों का प्रयोग किया गया है

         ·            हड़प्पा काल का समाज कैसा था? – मातृसत्तात्मक

         ·            लोथल का प्रमुख बंदरगाह कहां पर बना हुआ था? – गुजरात में खंभात की खाड़ी में

         ·            सिन्धु घाटी की लिपि को क्या अभी तक कोई पढ़ सका है? – नही

         ·            सिन्धु सभ्यता का पूज्य पशु तथा पूज्य वृक्ष के नाम थे? – पूज्य पशु कूबड़वाला साड़ और पूज्य वृक्ष पीपल

         ·            सिन्धु घाटी सभ्यता का मानचित्र् पर कैसा आकार बनता है? – त्रिभुज

 

Previous

Next


दोस्तों,आप सभी को BhartiyaExam कैसी लगी,आप आपने कमेंट के माध्यम से हमें बताये, BhartiyaExam को अपने दोस्तों के साथ,व्हाट्सप ग्रुप,फेसबुक पर अधिक से अधिक शेयर करे। धन्यवाद।



Comments

  • {{commentObj.userName}}, {{commentObj.commentDate}}

    {{commentObj.comment}}


LEAVE A COMMENT

Note: write a valuable comment!

एसएससी जी के
भारतीय एसएससी की सामान्य ज्ञान
एसएससी की सामान्य ज्ञान
रेलवे जी के
Indian Railway General Knowledge, Indian Railway GK, Indian Railway complete GK, Indian railway exam gk, indian railway general knowledge in hindi,Indian rail history, Bhartiya Railway,Indian Railway Exam Question answer in hindi,भारतीय रेलवे सामान्य ज्ञान, भारतीय रेल,,भारतीय रेलवे सामान्य ज्ञान ,भारतीय रेल महत्वपूर्ण सामान्य ज्ञान, सामान्य ज्ञान,रेल बजट,रेलवे सामान्य ज्ञान
भारतीय रेलवे सामान्य ज्ञान
उत्तर प्रदेश पुलिस परीक्षा जी के
Most Important Question for Uttar Pradesh Police Exam
उत्तर प्रदेश पुलिस परीक्षा जी के
राजनीति जी के
भारतीय राजनीति सामान्य ज्ञान
राजनीति सामान्य ज्ञान