● जो बीत चुका हो – अतीत (IAS)
● जो दिखायी न पड़े – अदृश्य, अप्रत्यक्ष (UPPCS, IAS)
● जो सदा से चला आ रहा है – अनवरत (IAS)
● जो कभी नहीं मरता – अमर्त्य, अमर (APO, RAS, IAS)
● जो आगे (दूर) की न सोचता हो – अदूरदर्शी (Upper Sub.)
● जो आगे (दूर) की सोंचता हो – अग्रसोची, दूरदर्शी (UPPCS)
● धरती (पृथ्वी) और आकाश के बीच का स्थान – अंतरिक्ष (UPPCS)
● जिसका कोई अर्थ न हो – अर्थहीन (UPPCS)
● जिस पर आक्रमण न किया गया हो – अनाक्रांत (UPPCS)
● जिसे जीता न जा सके – अजेय (UPPCS, Upper Sub., RO)
● बिना वेतन काम करने वाला – अवैतनिक (UPPCS, B.Ed., Low Sub.)
● जिसका जन्म पहले हुआ हो (बड़ा भाई) – अग्रज (RAS)
● दोपहर के बाद का समय – अपराह्न (IAS,  Upper Sub., UPPCS)
● जो पराजित न किया जा सके – अपराजेय (UKPCS)
● अधिक बढ़ा-चढ़ा कर कहना – अतिशयोक्ति, अतियुक्ति (B.Ed.)
● जिसका परिहार (त्याग) न हो सके/जिसको छोड़ा न जा सके – अपरिहार्य (UPPCS, B.Ed., Low Sub.)
● जो कानून के प्रतिकूल हो/जो विधि के विरुद्ध हो – अवैध, अविधिक (UPPCS, IAS)
● जो समय पर न हो – असामयिक (UPPCS)
● जो अवश्य होने वाला हो – अवश्यम्भावी (APO, UPPCS)
● जिसका विवाह न हुआ हो – अविवाहित (IAS)
● जो सबके अन्तःकारण की बात जानने वाला हो – अन्तर्यामी (MPPCS)

वाक्यांशों के समानार्थक शब्द तथा विशेष भाव-वाचक शब्द
● जो सबके अन्तःकारण की बात जानने वाला हो – अन्तर्यामी (MPPCS, RAS, UPPCS, IAS) 
● जो पहले कभी न हुआ हो – अभूतपूर्व (IAS, RAS)
● जो शोक करने योग्य न हो – अशोक (UPPCS)
● जो खाने योग्य ने हो – अखाद्य (UPPCS) 
● जो क्षीण न हो सके – अक्षय (RO) 
● जिसकी गहराई या थाह का पता न लग सके – अथाह, अगाध (RAS, UPPCS)
● जो चिन्ता के योग्य न हो – अचिन्त्य, अचिन्तनीय (RAS)
● जो इन्द्रियों द्वारा न जाना जा सके – अगोचर, अतीन्द्रीय (IAS)
● जो वस्तु किसी दूसरे के पास रखी हो – अमानत (UPPCS)
● जो बीत चुका हो – अतीत (IAS)
● जो दिखायी न पड़े – अदृश्य, अप्रत्यक्ष (UPPCS, IAS) 
● जो सदा से चला आ रहा है – अनवरत (IAS) 
● जो कभी नहीं मरता – अमर्त्य, अमर (APO, RAS, IAS) 
● जो आगे (दूर) की न सोचता हो – अदूरदर्शी (Upper Sub.) 
● जो आगे (दूर) की सोंचता हो – अग्रसोची, दूरदर्शी (UPPCS) 
● धरती (पृथ्वी) और आकाश के बीच का स्थान – अंतरिक्ष (UPPCS) 
● जिसका कोई अर्थ न हो – अर्थहीन (UPPCS) 
● जिस पर आक्रमण न किया गया हो – अनाक्रांत (UPPCS) 
● जिसे जीता न जा सके – अजेय (UPPCS, Upper Sub., RO)
● बिना वेतन काम करने वाला – अवैतनिक (UPPCS, B.Ed., Low Sub.) 
● जिसका जन्म पहले हुआ हो (बड़ा भाई) – अग्रज (RAS) 
● दोपहर के बाद का समय – अपराह्न (IAS,  Upper Sub., UPPCS)
● जो पराजित न किया जा सके – अपराजेय (UKPCS)
● अधिक बढ़ा-चढ़ा कर कहना – अतिशयोक्ति, अतियुक्ति (B.Ed.) 
● जिसका परिहार (त्याग) न हो सके/जिसको छोड़ा न जा सके – अपरिहार्य (UPPCS, B.Ed., Low Sub.)
● जो कानून के प्रतिकूल हो/जो विधि के विरुद्ध हो – अवैध, अविधिक (UPPCS, IAS) 
● जो समय पर न हो – असामयिक (UPPCS) 
● जो अवश्य होने वाला हो – अवश्यम्भावी (APO, UPPCS)
● जिसका विवाह न हुआ हो – अविवाहित (IAS) 
● जो सबके अन्तःकारण की बात जानने वाला हो – अन्तर्यामी (MPPCS) 
● जिसका इलाज न हो सके – असाध्य (RO) 
● किसी कार्य के लिए दी जाने वाली आर्थिक सहायता – अनुदान (UKPCS)
● व्यर्थ/अनुचित खर्च करने वाला – अपव्ययी (RAS, UPPCS)
● जिसकी पहले से कोई आशा न हो – अप्रत्याशित (UPPCS, APO) 
● पुरुष जो अभिनय करता हो – अभिनेता (MPPSC) 
● जो भेदा या तोड़ा न जा सके – अभेद्य (Low Sub.) 
● जिसका जन्म छोटी जाति (निचले वर्ण) में हुआ हो – अंत्यज (RO) 
● जो अभी-अभी उत्पन्न हुआ हो – अद्यःप्रसूत (UPPCS) 
● जिसको क्षमा न किया जा सके – अक्षम्य (Low Sub.) 
● जो न जाना जा सके – अज्ञेय (Upper Sub., UPPCS)
● जो कुछ न जानता हो – अज्ञ, अज्ञानी (UPPCS, B.Ed.) 
● कम बोलने वाला – अल्पभाषी, मितभाषी (Low Sub., APO, UPPCS, RAS,) 
● थोड़ा जानने वाला – अल्पज्ञ (RAS, MPPCS) 
● जिसका कभी अन्त न हो – अनन्त (UPPCS, B.Ed.) 
● जिसका माँ-बाप न हो – अनाथ (IAS,  UPPCS)
● जिसके समान कोई दूसरा न हो – अद्वितीय (RAS, IAS,  UPPCS)
● जिस पर मुकद्दमा चल रहा हो/ जिस पर अभियोग लगाया गया हो – अभियुक्त, अभियोगी (UPPCS, APO, IAS) 
● जिसकी कोई सीमा न हो – असीम (IAS,  UPPCS)
● जिसके आने की कोई तिथि न हो – अतिथि (IAS,  UPPCS)
● जिसे भुलाया न जा सके – अविस्मृति (IAS) 
● जिसकी उपमा न हो – अनुपम, अनुपमा (UPPCS, IAS) 
● जिसे बुलाया न गया हो/जो बिना बुलाये आया हो – अनाहूत (IAS,  UPPCS)
● जिसका वचन या वाणी द्वारा वर्णन न किया जा सके/जिसे वाणी व्यक्त न कर सके – अनिर्वचनीय, अवर्णनीय (IAS,  UPPCS)
● जिसे शब्दों में नहीं कहा जा सके – अकथनीय (UPPCS) 
● जिसका निवारण न हो सकता हो – असाध्य (UPPCS, B.Ed.) 
● जो अनुकरण करने योग्य हो – अनुकरणीय (APO) 
● किसी के पीछे-पीछे चलने वाला/जो पीछे चलता हो – अनुचर, अनुगामी, अनुयायी (IAS,  B.Ed.) 
● जिस पर अनुग्रह किया गया हो – अनुगृहीत (UPPCS, B.Ed.) 
● जो हिसाब किताब की जाँच करता हो – अंकेक्षक (MPPCS) 
● रूप के अनुसार – अनुरूप (UPPCS) 
● सोच-समझकर कार्य न करने वाला – अविवेकी (UPPCS, RAS) 
● जो पहले कभी घटित न हुआ हो – अघटित (IAS) 
● जिसकी परिभाषा देना संभव न हो – अपरिभाषित (IAS,  B.Ed.) 
● विकृत शब्द/बिगड़ा हुआ शब्द – अपभ्रंश (UPPCS) 
● जो विश्वास करने योग्य (लायक) न हो – अविश्वासनीय (Low Sub.) 
● जिसका किसी भी प्रकार उल्लंघन नहीं किया जा सके – अनुलंघनीय (Low Sub.) 
● जो अभी तक न आया हो – अनागत (IAS,  B.Ed.) 
● मूल्य घटाने की क्रिया – अवमूल्यन (IAS,  B.Ed.) 
● अधिकार या कब्जे में आया हुआ – अधिकृत (UKPCS)
● जो पहले कभी नहीं सुना गया – अनुश्रुत (Low Sub.) 
● जिसका जन्म अण्डे से हो – अण्डज (APO, B.Ed.) 
● गुरु के समीप या साथ रहने वाला विद्यार्थी – अन्तेवासी (UPPCS, B.Ed.) 
● जो व्यय न किया जा सके – अव्यय (Low Sub.) 
● जिसका उत्तर न दिया गया हो – अनुत्तरित (Low Sub., UPPCS)
● जो बदला न जा सके – अपरिवर्तनीय (Low Sub.) 
● जो इधर-उधर से घूमता-फिरता आ जाए – आगन्तुक (UPPCS, IAS) 
● जो आदर करने योग्य हो – आदरणीय (IAS) 
● आशा से अधिक/जिसकी आशा न की गई हो – आशातीत (Upper Sub., Low Sub.) 
● आलोचना करने वाला – आलोचक (Upper Sub.)
● आदि से अन्त तक – आद्योपान्त, आद्यन्त (UPPCS, IAS) 
● जो अपने पैरों पर खड़ा हो – आत्म-निर्भर (UPPCS) 
● आभार मानने वाला – आभारी (RAS, UPPCS)
● जो किसी वस्तु या व्यक्ति के गुण-दोष की आलोचना करता हो – आलोचक (Upper Sub.) 
● वह कवि जो तत्काल/तत्क्षण कविता कर डालता हो – आशुकवि (UKPCS, UPPCS)
● जो स्वयं का मत मानने वाला हो – आत्मभिमत (UPPCS) 
● जो ईश्वर को मानता हो – आस्तिक (MPPCS, Low Sub., UPPCS, BPSC, UKPCS)
● अतिथि की सेवा करने वाला – आतिथेयी (UKPCS)
● भगवान के सहारे अनिश्चित आय – आकाशवृत्ति (UKPCS)
● जो परम्परा से सुना हुआ हो – आनुश्राविक (UKPCS)
● जो इन्द्रियों को वश में कर ले – इन्द्रिय-निग्रहवान (Upper Sub.) 
● इतिहास जानने वाला – इतिहास-विंद, इतिहासविज्ञ, इतिहासकार (Upper Sub.) 
● इंद्रियों को वश में रखने वाला/जो इन्द्रियों पर विजय प्राप्त कर चुका हो – इंद्रियजित, जितेन्द्रिय (TET)
● इन्द्रियों से परे/इन्द्रियों के पहुँच के बाहर – इन्द्रियाती (UPPCS) 
● जो ऊपर कहा गया है – उपर्युक्त (IAS) 
● उपकार करने वाला – उपकारी (UPPCS) 
● किसी के बाद उसकी संपत्ति या पद को ग्रहण करने वाला व्यक्ति – उत्तराधिकारी (RAS) 
● जो सब कुछ उदारता से देना जानता है – उदारमना (UPPCS) 
● जिसने ऋण चुका दिया हो – उऋण (BPSC)
● पर्वत के नीचे तलहटी की भूमि – उपत्यका (RAS) 
● ऊँचे स्वर से उच्चारण किया हुआ – उर्ध्वोच्चारित (UPPCS) 
● जो धरती फोड़कर जन्मता है – उद्भिज (Low Sub.) 
● जो छाती/पेट के बल चलता है – उरग, सर्प (Low Sub.) 
● एक ही आदमी का अधिकार – एकाधिकार (UPPCS, RAS) 
● अन्य से सम्बन्ध न रखने वाला – एकान्तिक (UPPCS) 
● अपनी विवाहिता पत्नी से उत्पन्न (पुत्र) – औरस (APO) 
● जो सब कुछ उदारता से देना जानता है – औदार्यदाता (UPPCS) 
● जो कल्पना से परे हो – कल्पनातीत (IAS,  BPSC)
● जो काल से परे हो – कालातीत (IAS) 
● जिस पुरुष का ब्याह न हुआ हो/जिसने अभी विवाह न किया हो – कुमार, कुँवारा, कुआँरा (IAS) 
● भय-शोकादि के कारण कर्तव्य-ज्ञान से रहित/जिसे कर्तव्य न सूझ रहा हो – किंकर्तव्य-विमूढ़ (UPPCS, B.Ed., Low Sub.) 
● लेखन अति उत्तम होना – कलम तोड़ना (UPSI)
● जो अच्छे या ऊँचे कुल में उत्पन्न हुआ हो – कुलीन (Low Sub., UPPCS)
● व्यक्ति जिसका ज्ञान अपने ही स्थान तक सीमित हो/जिसे बाहरी जगत का ज्ञान न हो – कूपमंडूक (UKPCS)
● जो मोल लिया हुआ हो – क्रीत (RAS, APO) 
● किये हुए उपकार को भूल जाने वाला – कृतघ्न, एहसान, फरामोश (Low Sub., RAS, UPPCS, APO, Asst. Grad Exam.) 
● स्त्री जो कविता रचती है – कवयित्री (Low Sub.) 
● जो कर्त्तव्य से च्युत हो गया हो – कर्त्तव्यच्युत (Upper Sub.) 
● जो अपने काम से जी चुराता हो – कामचोर (MPPCS) 
● जिसके पास करोड़ों रुपये हों – करोड़पति (B.Ed., IAS) 
● जो कम खर्च करने वाला हो – कंजूस, मितव्ययी (UPPCS, APO) 
● राजनीतिज्ञों एवं राजदूतों की कला – कूटनीति (MPPCS)
● जो भवन/घर गिर गया हो – खंडहर (Low Sub.) 
● ऐसा ग्रहण जिसमें सूर्य परा ढक जाये – खग्रास, सूर्यग्रहण (UPPCS) 
● जो खाया जा सके (जो खाने योग्य हो) – खाद्य (UPPCS) 
● आकाश चूमने वाला – गगनचुम्बी, गगनस्पर्शी (Low Sub., APO, UPPCS, RAS) 
● संध्या काल जब गायें चरकर लौटती हैं/सन्ध्या और रात के बीच का समय – गोधूलि (Upper Sub.) 
● जो बात छिपाई जाए – गोपनीय (UPPCS) 
● जिसके सिर पर बाल न हो – गंजा (Low Sub.) 
● जो पहाड़ को धारण करता हो – गिरिधारी, श्रीकृष्ण (IAS) 
● जो सदा से चला आ रहा हो – चिरन्तन, शाश्वत (IAS) 
● जिस पर चिन्ह लगाया गया हो – चिन्हित (UPPCS) 
● जिनके चार-चार पैर होते हैं – चतुष्पद, चौपाया (APO) 
● जिसके सिर पर चन्द्रमा (चन्द्र) है – चंद्रशेखर (UPPCS, RO)
● जहाँ से अनेक मार्ग चारों ओर जाते हैं – चौराहा (IAS) 
● छोटे से छोटे दोष को खोजने वाला – छिद्रान्वेषी (MPPCS, RAS) 
● जीने की प्रबल इच्छा – जिजीविषा (MPPCS, RAS) 
● कुछ जानने या ज्ञान प्राप्त करने की चाह – जिज्ञासा (UPPCS) 
● जानने की इच्छा रखने वाला – जिज्ञासु (UPSI, UPPCS, IAS, RAS, Low Sub.) 
● जिसने इन्द्रियों पर विजय पा ली हो – जितेन्द्रिय (Upper Sub.) 
● जो अवैध सन्तान हो – जारज (UKPCS)
● तीनों कालों (भूत, वर्तमान और भविष्य) को जानने वाला – त्रिकालज्ञ, त्रिकालदर्शी (UKPCS)
● ऐसी जीविका जो आकस्मिक हो – तदर्थजीविका (UPPCS) 
● धरती और आकाश के बीच का स्थान – त्रिशंकु (UPPCS) 
● जो आगे की सोचता हो – दूरदर्शी (RAS) 
● गोद लिया हुआ पुत्र – दत्तक (UPPCS, UKPCS)
● जो दुबारा जन्म लेता हो – द्विज, द्विजन्मा (UPPCS, APO) 
● जहाँ जाना कठिन हो – दुर्गम (MPPCS, RAS) 
● जिसका दमन करना कठिन हो – दुर्दम, दुर्दम्य (UPPCS) 
● स्त्री-पुरुष का जोड़ा/पति एवं पत्नी – दंपति, दंपती (UPPCS)

Previous

Next

दोस्तों,आप सभी को जनरल नॉलेज कैसी लगी,आप आपने कमेंट के माध्यम से हमें बताये। और BhartiyaExam को अपने दोस्तों,व्हाट्सप ग्रुप,फेसबुक पर अधिक से अधिक शेयर करे। धन्यवाद।



Comments

  • {{commentObj.userName}}, {{commentObj.commentDate}}

    {{commentObj.comment}}


LEAVE A COMMENT

Note: write a valuable comment!

बैंक जी के
भारतीय बैंकों के सामान्य ज्ञान
बैंक सामान्य ज्ञान
रेलवे जी के
Indian Railway General Knowledge, Indian Railway GK, Indian Railway complete GK, Indian railway exam gk, indian railway general knowledge in hindi,Indian rail history, Bhartiya Railway,Indian Railway Exam Question answer in hindi,भारतीय रेलवे सामान्य ज्ञान, भारतीय रेल,,भारतीय रेलवे सामान्य ज्ञान ,भारतीय रेल महत्वपूर्ण सामान्य ज्ञान, सामान्य ज्ञान,रेल बजट,रेलवे सामान्य ज्ञान
भारतीय रेलवे सामान्य ज्ञान
नवीनतम जी के
Extra GK for diffrent exams.
नवीनतम जी के सामान्य ज्ञान
पुरस्कार जी के
भारतीय पुरस्कार भारत रत्न, बुकर पुरस्कार, पद्म भूषण सामान्य ज्ञान
पुरस्कार भारत रत्न, बुकर पुरस्कार, पद्म भूषण सामान्य ज्ञान